मंगलवार, 15 जुलाई 2008

करता है बातें मायूसी भरी, जो ख़ुद सदा हौसला रहा! हाल ऐ दिल!

है ये सफर ग़मगीन सा, रस्ता भी क्या मंज़िल भी,
चलता रहा हर दम यूँही, रस्ता भी क्या मंज़िल भी क्या।

होता रहा सफर यूँही तमाम, हर एक लम्हा हर एक पल,
मैं सोचता रहा यूँही बस, घर था कहाँ, और मंज़िल कहाँ?

था जिनके दम पर चलना मुझे, वो चल दिए यूँ छोड़कर,
जैसे के था मैं अजनबी, जो साथ उनके चलता रहा।

उम्मीद न करना किसी से ऐ यश, वो दोस्त हो या यार हो,
सब चल रहे हैं तन्हा यहाँ, बाकी नही रिश्ता रहा।


यूँ ज़िन्दगी से ख़फा वो रहने लगा, जिसे ज़िन्दगी प्यार था,
करता है बातें मायूसी भरी, जो ख़ुद सदा हौसला रहा।

3 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढिया रचना है।बहुत बढिया कहा-

    उम्मीद न करना किसी से ऐ यश, वो दोस्त हो या यार हो,
    सब चल रहे हैं तन्हा यहाँ, बाकी नही रिश्ता रहा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. यूँ ज़िन्दगी से ख़फा वो रहने लगा, जिसे ज़िन्दगी प्यार था,
    करता है बातें मायूसी भरी, जो ख़ुद सदा हौसला रहा।

    --bahut khoob.

    उत्तर देंहटाएं
  3. था जिनके दम पर चलना मुझे, वो चल दिए यूँ छोड़कर,
    जैसे के था मैं अजनबी, जो साथ उनके चलता रहा।


    yeh meri nxt post ki theme thi :)

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails