बुधवार, 12 मार्च 2008

सुदर्शन फाकिर: उनकी गज़लें और ओरकुट पे उनकी community..

पिछले दिनों जब मैंने कागज़ की कश्ती और बारिश का पानी जैसा गीत/ग़ज़ल लिखने वाल्व सुदर्शन फाकिर जी के गुज़र जाने के बाद मैंने लिखा था तब कुछ लोगों न पूछा था की ये फाकिर कौन है और क्या है? तो मैंने उन्हें कुछ मशहूर गजलें और गीत बताये साथ ही जो कुछ मुझे मालूम था उनके बारे में वो भी बता दिया।
अब मुझे ओरकुट पे उनके नाम पर बनी community के बारे में पता चला है जो मैं सबके साथ में बांटना चाहता हूँ ताकि जो लोग उनसे वाकिफ़ नही हैं वो भी उन्हें जान जाएँ और कुछ बहुत खूबसूरत नज्मों का मज़ा ले पाएं साथ में सुदर्शन जी को याद भी कर पाएं। अगर आपका ओरकुट पे I D है तो आप सीधे इस लिंक पर क्लिक्क कर सकते हैं।
http://www.orkut.com/Community.aspx?cmm=44170117

2 टिप्‍पणियां:

  1. Nadeem bhai..
    aap ne kyaa likha hai mai.n paD nahi.n paa rahaa hu.n, kyo.kii mere paas urdu/hindi font nahi.n hai.
    Waise jab aap Sudarshan Fakir ke fan hai.n to kuchh achchha hii likha hogaa. Mujhe yahaa.n wo link share karne se koi pareshani nahi.n hai.
    Mai.n khud bhi unkaa ek fan hu.n, oar unkii death se bohot dhakka lagaa tha mujhe bhi, yu.n to mai.n unke aage zarra bhi nahi.n, par apnii zaati poetry unkii poetry ke bohot qareeb paai mai.ne.

    I look forward for your more positive contribution towards this community.

    -Aamir

    उत्तर देंहटाएं
  2. Nadeem bhai..
    aap ne kyaa likha hai mai.n paD nahi.n paa rahaa hu.n, kyo.kii mere paas urdu/hindi font nahi.n hai.
    Waise jab aap Sudarshan Fakir ke fan hai.n to kuchh achchha hii likha hogaa. Mujhe yahaa.n wo link share karne se koi pareshani nahi.n hai.
    Mai.n khud bhi unkaa ek fan hu.n, oar unkii death se bohot dhakka lagaa tha mujhe bhi, yu.n to mai.n unke aage zarra bhi nahi.n, par apnii zaati poetry unkii poetry ke bohot qareeb paai mai.ne.

    I look forward for your more positive contribution towards this community.

    -Aamir

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails