मंगलवार, 17 जून 2008

फिर इन आंखों में नमी चली आई। हाल ऐ दिल!

तू तो आया नही, तेरी याद चली आई,
फिर इन आंखों में नमी चली आई।


हँस रहा था यूं तो मैं तस्वीर खुशगवार देखकर,
फिर क्या हुआ जो इस तस्वीर में तेरी झलक नज़र आई,
फिर इन आंखों में नमी चली आई।



कल पूछ रहा था डाकिया मुझसे जाते-जाते,
क्या हुआ आपकी कईं दिनों से चिठ्ठी नही आई?
फिर इन आंखों में नमी चली आई।


अब तो आईना भी मुझे चिढाने लगा है,
मुझको मेरी तस्वीर ही उसमें धुंधली नज़र आई,
फिर इन आंखों में नमी चली आई।


नज़र उठा के आसमान को जो देखा मैंने,
बादलों से झांकते हुए फिर तू नज़र आई,
फिर इन आंखों में नमी चली आई।


यूं तो सुना था बदकिस्मत है वो, जिनके हिस्से में ग़म नही होते,
मगर अपने हिस्से में ये खुशकिस्मती दामन भरके आई,
फिर इन आंखों में नमी चली आई।


हमने सोचा था के अब अश्क भी सूख चुके हैं हमारे,
मगर आज फिर एक लहर लबों तक उठ आई,
फिर इन आंखों में नमी चली आई।

7 टिप्‍पणियां:

  1. कल पूछ रहा था डाकिया मुझसे जाते-जाते,
    क्या हुआ आपकी कईं दिनों से चिठ्ठी नही आई?
    फिर इन आंखों में नमी चली आई।

    bahut khoob........bahut hi saralta se aapne apni baat kah di

    उत्तर देंहटाएं
  2. कल पूछ रहा था डाकिया मुझसे जाते-जाते,
    क्या हुआ आपकी कईं दिनों से चिठ्ठी नही आई?
    फिर इन आंखों में नमी चली आई।

    --बेहतरीन, वाह!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. कल पूछ रहा था डाकिया मुझसे जाते-जाते,
    क्या हुआ आपकी कईं दिनों से चिठ्ठी नही आई?
    aor aakhiri vala bhi bahut pyara laga....bahut badhiya....

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails