सोमवार, 21 अप्रैल 2008

मन नही कर रहा लिखने का!!!!!!!!क्या करूं?

पिछले कुछ दिनों से जब भी लिखने के लिए बैठता हूँ कोई सूझता ही नही कि क्या लिखूं। आज बड़ी मुश्किल से चंद पंक्तियाँ अपनी डायरी से उतारी भी मगर मज़ा नही आया कुछ उसमें से मिटा दीं और जो कुछ बचा पोस्ट कर दिया। पता नही क्या वजह है आजकल लिखने का मन नही करता। कभी-कभी लिखने के लिए कोई विषय नही मिलता तो कभी न जाने क्यों सोचता हूँ कि इस विषय पर न लिखूं। पहले मैं सोचता था कि जब भी मन करे लिख डालो मन थोड़ा हल्का हो जाता है, अपने दिल से बात भी निकाल जाती है, मगर आजकल मन नही लग रहा।
क्या करें जब लिखने का मन भी न करें?

6 टिप्‍पणियां:

  1. इससे बाहर निकलने का समय भी आयेगा.. आप इंतजार करें..

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्षणिक दौर है। आता रहता है। सबके साथ ऐसा ही होता है। फिलहाल मौन हो जाइए। अपने-आप ही कुछ दिन में नए विचार तैयार हो जाएंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अरे लिखने का मन नहीं कर रहा तो मत लिखिए... कहीं और मन लगाइए... और एक बार कहीं मन लग गया, तो फिर लिखने का भी मन करने लगेगा... अभी तो आप कहीं और मन लगाने की कोशिश करें.

    उत्तर देंहटाएं
  4. कोई बात नही। अक्सर ऐसा होता है और सभी के साथ होता है। थोड़ा आराम और फ़िर वापिस आ जाइए।

    उत्तर देंहटाएं
  5. कुछ समय को लेखन स्थगित रखें-अपने आप वापस ले आयेगा यह आपको. शुभकामना.

    उत्तर देंहटाएं
  6. अरे लिखने का मन नहीं कर रहा तो मत लिखिए, हा तो फ़िर टाईप कर लो,

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails