मंगलवार, 8 दिसंबर 2009

अब हम साथ नही हैं। त्रिवेणी!

ख़ता उसकी न पूछिए,
ख़ता मेरी न बताईये,
!
!
!
बस याद ये रखिये के अब हम साथ नही हैं।

7 टिप्‍पणियां:

  1. दमदार तीन लाईना है भाई.


    इक फोन कर लेते तो शायद दूरियां कुछ कम हो जाती.

    उत्तर देंहटाएं
  2. रचना प्रस्तुति बढ़िया है कम शब्दों में

    उत्तर देंहटाएं
  3. संजीवजी क्या करें उन्होंने हमारा फ़ोन न उठाने की क़सम जो खायी है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. मुझको रुलाने ये फिर आ गए हैं,
    रात भर जगाने ये फिर आ गए हैं,
    !
    !
    !
    तेरे अफसाने भी न दुश्मन मेरे हैं॥
    nadem ye vaali achhi hai .....

    par upar vaali me meter ki gadbad hai yaar...albatta soch achhi hai ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. डॉ साहब, यही सीखने के लिए तो आप लोगों के सामने लिखना शुरू किया है, अगर मीटर की ग़लती भी बता देते तो मेहरबानी होती.

    उत्तर देंहटाएं
  6. चलिये, डॉक्टर साहब का गाईडेन्स मिल रहा है...शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  7. Udan Tashtari साहब
    धन्यवाद. कोशिश जारी है, कभी न कभी तो अच्छा सही लिखना सीख ही लेंगे, तब तक तो ये ही सही.

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails