रविवार, 25 अप्रैल 2010

"कुछ ख्वाब कभी सच नहीं हुआ करते।'' हाल ऐ दिल!

मैं आज फिर,
रोज़ की तरह सो कर उठा,
तुम्हें ढूंढा कुछ देर,
बिस्तर पर हाथ मारते हुए,
फिर याद आया,
"कुछ ख़्वाब कभी सच नहीं हुआ करते।''

6 टिप्‍पणियां:

  1. हर शब्‍द में गहराई, बहुत ही बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. खूब उतारा है ख़्वाबों को....पुरे हो जाएँ तो हकीकत बन जायेंगे ना..

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह .. निःशब्द आपकी छोटी से रचना पर .. बहुत लंबी बात कह गयी ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. ज़र्रा नवाज़िश क शुक्रिया।

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails