शुक्रवार, 26 मार्च 2010

कमबख्त दोस्त ही रहता, तो अच्छा होता। दो लाइन!




वो तो एक अच्छा दुश्मन भी ना बन सका,
कमबख्त दोस्त ही रहता, तो अच्छा होता।

4 टिप्‍पणियां:

  1. ये लाइने तो खूबसूरत हैं अच्‍छा है आपने गजल पूरी करने की खराश नहीं पाली।

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुक्रिया राजे साहब, मुझे लगा के कहीं ग़ज़ल पूरी करने के चक्कर में इन लइनों की रूह ही ना निकल जाए.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails