रविवार, 28 सितंबर 2014

तनहा खड़ा हूँ खुद के घर में

Feeling Alone
तनहा खड़ा हूँ खुद के घर में / इमेज; hqwallbase.com
न जाने कितनी बार लौटने का वादा करके फिर न लौटा मैं,
आज जब लौटा हूँ तो तनहा खड़ा हूँ खुद के घर में,
यूँ तो अक्सर मुझे आदत थी वादा करके ना आने की,
आज आया हूँ तो पता चला के बहुत से लोग चले गए इस घर से,

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब ... किसी की इंतज़ार यूँ भी कोई नहीं करता ... फिर जिस मुसाफिर के वादे का भरोसा न हो उसका इंतज़ार ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. your writing skills and thoughts are heart touching keep it up dear
    our blog portal is http://www.nvrthub.com

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails